IND vs WI 1st ODI: कुलदीप यादव, जडेजा, ईशान किशन ने भारत को वेस्टइंडीज को पटकने में मदद की

भारत ने गुरुवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले वनडे में 115 रन के छोटे लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करते हुए अपने बल्लेबाजी क्रम में प्रयोग किया।

 

भारत ने गुरुवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले वनडे में 115 रन के छोटे लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करते हुए अपने बल्लेबाजी क्रम में प्रयोग किया

 

बारबाडोस के स्पिनिंग केंसिंग्टन ओवल के पिच पर गुरुवार (27 जुलाई) को खेले गए सीरीज के पहले वनडे में वेस्टइंडीज ने भारत की थोड़ी परीक्षा ली। वेस्टइंडीज को 23 ओवरों में 114 रनों पर समेटने के बाद, भारत को लक्ष्य आराम से पाने की उम्मीद थी, लेकिन पिच आसान नहीं थी और स्पिनरों को टर्न मिलती रही।

भारत ने लक्ष्य को पार करते हुए 22.5 ओवर में 118/5 रन बनाकर पांच विकेट से जीत हासिल की और तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली।

भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा था कि वे वनडे विश्व कप से पहले कुछ चीजें आज़माना चाहते हैं और यह उनके बल्लेबाजी क्रम में दिखाई दिया। रोहित, जो सभी प्रारूपों में ओपनिंग करते हैं, सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने आए। युवा खिलाड़ियों को मौका दिया गयावौर उसमे से कुछ ने मौके को अपने हाथ से फिसल जाने दिया और भारत के लिए शुक्र कि बात रही लिंक छोटे से लक्ष्य का पीछा करने में विराट कोहली की जरूरत पड़ी।

इशान किशन ने शुभमन गिल के साथ ओपनिंग की। लेकिन यह जोड़ी जल्दी ही टूट गई जब चौथे ओवर में सात रन पर गिल आउट हो गए। उनके आउट होने से सूर्यकुमार यादव नंबर 3 पर आए और उन्होंने कुछ आशाजनक शॉट्स के साथ शुरुआत की जिसमें फाइन लेग पर एक ट्रेडमार्क छक्का भी शामिल था।

सूर्यकुमार ने तेज़ खेला लेकिन 19 रन पर एलबीडब्ल्यू आउट होने गए। हार्दिक पंड्या (7 में से 5) और शार्दुल ठाकुर (4 में से 1) भी कुछ खास नहीं कर पाए।

हालाँकि, इशान ने शॉट्स खेलना ज़ारी रखा और 46 गेंद पर 52 रन बनाकर मिडविकेट पर कैच आउट हुए। इसके बाद रोहित और रवींद्र जड़ेजा ने टीम को संभाला।

इससे पहले, जड़ेजा और कुलदीप यादव की स्पिन गैंदों ने वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को काफी परेशान किया और टीम केवल 23 ओवर में 114 रन पर आउट हो गई।

हार्दिक पंड्या (3 ओवर में 1/17) ने डेब्यू कर रहे मुकेश कुमार (5 ओवर में 1/22) के साथ नई गेंद से शुरुआत करते हुए पहले स्पैल से माहौल तैयार किया, जिसके बाद जडेजा और कुलदीप ने वेस्टइंडीज की पारी खत्म करने में देरी नहीं की।

कप्तान शाई होप के 43 रन मेजबान टीम के लिए शीर्ष स्कोर रहे और केवल दो अन्य बल्लेबाज ही दोहरे अंक को पार करने में सक्षम हुए।

एक बार जब जडेजा (6-0-37-3) और कुलदीप (3-2-6-4) ने मिलकर काम करना किया, तो वेस्टइंडीज के पास ऐसे ट्रैक पर टिकने की गुणवत्ता नहीं थी, जिसमें बल्लेबाजों को परेशान करने के लिए अतिरिक्त उछाल था।

काइल मेयर्स खुल कर खेलना चाहते थे लेकिन केवल एक स्लॉग में कामयाब रहे जो मिड-ऑन पर कप्तान रोहित शर्मा के पास गया, जबकि जडेजा ने क्रीज पर एक संक्षिप्त लेकिन साहसिक प्रवास के बाद एलिक अथानाज़ (18 गेंदों में 22 रन) के स्लैश को पकड़ने के लिए पॉइंट पर लंबी छलांग लगाई।

ठाकुर (3 ओवर में 1/14) ने ब्रैंडन किंग (17) को आउट के लिए एक बेहतरीन इन-कटर गेंदबाजी की। शिम्रोन हेटमायर (19 गेंदों में 11 रन) का संघर्ष स्पष्ट था, जब वह जडेजा की गेंद पर एक बदसूरत लैप-स्कूप का प्रयास कर रहे थे।

टी-20 स्टार रोवमैन पॉवेल उस टर्न का अंदाजा नहीं लगा सके जो जड़ेजा ने निकाला, जबकि कुलदीप ने वेस्टइंडीज के कप्तान को एक अस्वाभाविक रिवर्स स्वीप का प्रयास करने के लिए मजबूर किया और इस यॉर्क आउट हुए।

कुलदीप की गुगली (दाहिने हाथ के बल्लेबाजों से दूर जाने वाली) अधिकांश कैरेबियाई बल्लेबाजों के लिए खेलने योग्य नहीं थी।