छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए Arvind Kejriwal के मुफ़्त वादें और नौ गारंटी

chhattisgarh elections arvind kejriwal
Arvind Kejriwal ने यह भी वादा किया उनकी पार्टी दिल्ली की तरह छत्तीसगढ़ में भी सरकारी स्कूलों को निजी स्कूलों से बेहतर बनाएगी।

अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को चुनौती देने के लिए छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में 2023 के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों में चुनौती देने के लिए तैयारी कर रही है। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023 का बिगुल फूंकते हुए केजरीवाल ने शनिवार (19 अगस्त) को प्रदेश के वोटरों को लुभाने के लिए, केजरीवाल ने नौ चुनावी “गारंटियों” की घोषणा की, जिसमें मुफ्त बिजली देने का वादा भी शामिल है।

छत्तीसगढ़ कि राजधानी रायपुर में आप कार्यकर्ताओं के एक सम्मेलन में प्रदेश के कांग्रेस सरकार के साथ साथ भाजपा नेतृत्व वाली केंद्रीय सरकार पर निशाना साधते हुए अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा, “छत्तीसगढ़ में बहुत भ्रष्टाचार है” और सिर्फ आप एक ऐसी पार्टी है जो भ्रष्ट नहीं है। “हम सभी प्रकार के भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाएंगे और अपनी सभी गारंटी को पूरा करने के लिए धन और संसाधन का उपयोग करेंगे। महंगाई बढ़ती जा रही है और जनता परेशान है और सभी के लिए अपना परिवार चलाना मुश्किल हो गया है।”

पंजाब सीएम भगवंत मान के साथ, अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने नौ गारंटी की घोषणा कि और यह भी कहा कि वह 10वीं गारंटी, जो “किसानों और आदिवासियों के लिए एक बड़ी घोषणा” होगी का ऐलान बाद में करेंगे। केजरीवाल की गारंटी में 300 यूनिट तक 24 घंटे मुफ्त बिजली और बिल माफ, 18 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को कॉलेज जाने के खर्च के लिए एक हजार रुपये, सरकारी अस्पतालों और क्लीनिकों में मुफ्त इलाज, बेरोजगार युवाओं को तीन हजार प्रति माह और राज्य में संविदा कर्मचारियों को नियमित करना शामिल है।

केजरीवाल ने देश की अन्य पार्टियों पर यह आरोप लगाया कि आजादी के बाद से सभी ने धर्म या जाति के नाम पर वोट हासिल करने की कोशिश की है लेकिन उसके विपरीत आप अच्छे स्कूलों और अस्पतालों के निर्माण के लिए लोगों का जनादेश चाहती है।

उन्होंने कहा, ”मैं एक इनकम टैक्स कमिश्नर था, मान एक कॉमेडियन थे। मैं बहुत सारा पैसा कमा सकता था लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया। मैं पैसे के लिए राजनीति में नहीं आया हूं. अन्ना आंदोलन हुआ और एक पार्टी का जन्म हुआ और किसी ने नहीं सोचा था कि हम सत्ता में आएंगे लेकिन हम तीन बार (दो बार दिल्ली में और एक बार पंजाब में) बड़े बहुमत के साथ सत्ता में आए।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा, “क्या वादे के मुताबिक आपके खाते में 15 लाख रुपये आए? अन्य पार्टियाँ अपने कार्यकाल के अंतिम छह महीनों में काम करती हैं। लेकिन हमारी सरकार बनते ही हम काम करते हैं। हमने पंजाब में केवल 18 महीनों में पांच से छह गारंटी पूरी कर ली हैं।”

उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पार्टी दिल्ली की तरह छत्तीसगढ़ में भी सरकारी स्कूलों को निजी स्कूलों से बेहतर बनाएगी। दिल्ली में चार लाख छात्रों ने निजी स्कूल छोड़कर सरकारी स्कूलों में दाखिला लिया। रिक्शा चालकों, आईएएस अधिकारी और जज के बच्चे अब एक ही क्लास में बैठते हैं। हम शिक्षकों को नियमित करेंगे। निजी स्कूल आपको लूट रहे हैं और गुंडों की तरह काम कर रहे हैं, हर समय फीस बढ़ा रहे हैं। दिल्ली में दस साल से फीस नहीं बढ़ी है।”

अरविन्द केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने यह भी वादा किया कि अच्छे वातानुकूलित अस्पताल मुफ्त में स्थापित किए जाएंगे, जहां 20 लाख रुपये से अधिक की लागत वाले प्रत्यारोपण ऑपरेशन भी मुफ्त किए जाएंगे। सभी गांवों में मोहल्ला क्लीनिक भी बनाए जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली में अब तक 2 लाख सरकारी नौकरियां और 12 लाख निजी नौकरियां दी गई हैं और यही व्यवस्था छत्तीसगढ़ में भी की जाएगी, उन्होंने कहा कि बेरोजगारों को 3,000 रुपये प्रति माह मिलेंगे।

महिला सशक्तिकरण पर केजरीवाल ने कहा कि 18 साल से ऊपर की सभी महिलाओं को 1,000 रुपये दिए जाएंगे, ताकि वे अपनी उच्च शिक्षा पूरी कर सकें। उन्होंने वरिष्ठ नागरिकों के लिए मुफ्त पवित्र यात्रा का वादा किया। उन्होंने देश के लिए कर्तव्य निभाते हुए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले शहीद सुरक्षाकर्मियों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये देने का भी वादा किया।

आप ने छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में भी लड़ा था और प्रदेश कि 85 सीटों पर अपने उमीदवार उतरे थे लेकिन सभी की ज़मानत ज़ब्त हो गयी थी। आप को पुरे छत्तीसगढ़ में केवल 1.23 लाख वोट मिले थे।