Udhayanidhi Stalin ‘सनातन का खात्मा’ टिप्पणी पर कायम, राष्ट्रपति, महाभारत का हवाला दिया

उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) ने दोहराया कि वह अपनी बातों पर के लिए किसी भी कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं।

तमिलनाडु के खेल और युवा मामलों के मंत्री उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) – जिनकी सनातन धर्म का “उन्मूलन कर देना चाहिए” टिप्पणी ने एक बड़ा राजनीतिक विवाद पैदा कर दिया है – ने आज (6 सितम्बर) को अपनी बात पर कायम रहते हुए उसके समर्थन में कुछ उदाहरण भी दिया। उन्होंने इस विषय पर द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम (डीएमके) के लंबे समय से चले आ रहे रुख को एक बार फिर से रेखांकित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार द्वारा नई संसद के उद्घाटन के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को आमंत्रित नहीं करना सनातन में भेदभाव का एक उदाहरण है।

पेरियार के सिद्धांतों पर आधारित द्रमुक ने दशकों तक सनातन धर्म का विरोध किया है और इसका उन्हें तमिल नाडु में राजनीतिक लाभ भी मिला है। द्रमुक नेताओं के अनुसार पीढ़ियों से लोगों का एक बड़ा वर्ग सनातन धर्म के अनुयायियों द्वारा उत्पीड़ित था, जाति के नाम पर उन्हें समानता, शिक्षा, धार्मिक स्थलों में प्रवेश से वंचित रखा गया।

उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) ने दोहराया कि वह अपनी बातों पर के लिए किसी भी कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता और पूर्व राज्य सभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने एक्स पर दावा किया है कि उन्होंने तमिलनाडु के राज्यपाल को पत्र लिखकर उदय के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने की मंजूरी मांगी है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह सामाजिक भेदभाव का वर्तमान समय में कोई उदाहरण दे सकते हैं, उदयनिधि स्टालिन ने कहा, “राष्ट्रपति मुर्मू को नई संसद के उद्घाटन के लिए आमंत्रित नहीं किया जाना वर्तमान सनातन भेदभाव का सबसे अच्छा उदाहरण है।”

उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) ने 5 सितम्बर को महाभारत में भी भेदभाव का उल्लेख किया था। “शिक्षक अतुलनीय हैं जो हमेशा केवल भविष्य की पीढ़ियों के बारे में सोचते हैं। हमारे द्रविड़ आंदोलन और उन शिक्षकों के बीच का बंधन जो अंगूठे मांगे बिना सद्गुणों का उपदेश देते हैं! यह हमेशा जारी रहेगा। हैप्पी टीचर्स डे,” उन्होंने शिक्षक दिवस पर एक्स पर पोस्ट किया था।

शिक्षकों द्वारा “अंगूठे” मांगने का उल्लेख पांडवों और कौरवों के शिक्षक द्रोणाचार्य का संदर्भ है, जिन्होंने एक आदिवासी लड़के एकलव्य से गुरु दक्षिणा के रूप में उसका दाहिना अंगूठा मांगा था, जब यह स्पष्ट हो गया कि वह अर्जुन से बेहतर धनुर्धर है।

उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) ने 2 सितम्बर को अपनी टिप्पणी से विवाद खड़ा कर दिया कि “सनातन (धर्म) मलेरिया और डेंगू की तरह है और इसलिए इसे खत्म किया जाना चाहिए और इसका विरोध नहीं किया जाना चाहिए”।

इस बयान पर भारी राजनैतिक प्रतिक्रिया हुई और भाजपा ने दावा किया कि यह “नरसंहार के आह्वान” के बराबर है। उदयनिधि ने इस आरोप का खंडन किया है और इसे फर्जी खबर बताया है।