यूक्रेनी पायलटों की एफ-16 लड़ाकू विमान पर ट्रेनिंग अगस्त से शुरू

अब तक, किसी भी देश ने यूक्रेन को एफ-16 भेजने के लिए प्रतिबद्धता नहीं जताई है, हालांकि पोलैंड और स्लोवाकिया ने यूक्रेन के लड़ाकू विमानों के बेड़े के लिए 27 मिग-29 की आपूर्ति की है।

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध अब 16 महीने से भी ज्यादा समय से जारी है और पश्चिमी देशे के द्वारा अत्याधुनिक हथियार देने का बावजूद वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की की सेना अभी भी अपने देश को सुरक्षित करने में असमर्थ है| ज़ेलेंस्की ने संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके नेतृत्व वाले नाटो से पिछले कई महीनो से लड़ाकू विमानों की मांग कर रखी है और अब 11 यूरोपियन देशों का गठबंधन अगस्त में डेनमार्क में यूक्रेनी पायलटों को एफ-16 लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए प्रशिक्षण देना शुरू करेगा|

इसके लिए रोमानिया में एक प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किया जाएगा, अधिकारियों ने मंगलवार को लिथुआनिया में नाटो सम्मलेन के मौके पर कहा| नाटो के सदस्य डेनमार्क और नीदरलैंड पायलटों के साथ-साथ सहायक कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने, विमानों के रखरखाव और अंततः रूस के साथ युद्ध में यूक्रेन को एफ-16 की आपूर्ति को सक्षम करने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का नेतृत्व कर रहे हैं।

डेनमार्क के कार्यवाहक रक्षा मंत्री ट्रॉल्स लुंड पॉल्सेन ने एक हस्ताक्षर समारोह के बाद संवाददाताओं से कहा, “उम्मीद है, हम अगले साल की शुरुआत में परिणाम देख पाएंगे।”

अब तक, किसी भी देश ने यूक्रेन को एफ-16 भेजने के लिए प्रतिबद्धता नहीं जताई है, हालांकि पोलैंड और स्लोवाकिया ने यूक्रेन के लड़ाकू विमानों के बेड़े के लिए 27 मिग-29 की आपूर्ति की है।

कीव, जिसने रूसी सेनाओं के खिलाफ जवाबी कार्रवाई शुरू की है, ने बार-बार पश्चिमी देशों से विमानों की आपूर्ति करने और उन्हें उड़ाने के लिए अपने पायलटों को प्रशिक्षित करने का आह्वान किया है, ताकि मॉस्को के हवाई प्रभुत्व का सफलतापूर्वक मुकाबला किया जा सके।

यूक्रेनी रक्षा मंत्री ओलेक्सी रेज़निकोव ने संवाददाताओं से कहा, “हमें अपनी नागरिक आबादी, हमारे बुनियादी ढांचे, महत्वपूर्ण वस्तुओं, हमारे स्कूलों, हमारे विश्वविद्यालयों की रक्षा करनी है। इसलिए हमारे लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि यह लड़ाकू जेट गठबंधन शुरू हो।” उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है – मैं एक आशावादी हूं – कि छह महीने के बाद हम परिणाम देखेंगे।”

बुधवार को समाप्त होने वाले शिखर सम्मेलन में, नाटो नेता इस बात पर सहमत हुए कि यूक्रेन का भविष्य गठबंधन के भीतर है, लेकिन उन्होंने कीव को शामिल होने का निमंत्रण या समय सारिणी देने से इनकार कर दिया, जिसकी देश मांग कर रहा था।