India vs West Indies Second Test: विराट कोहली-रवींद्र जड़ेजा की साझेदारी से भारत मज़बूत स्थिति में

कोहली ने दृढ़ता से अच्छा बचाव किया, विकेटों के बीच तेज़ दौड़ लगाई और ढीली गेंदों का इंतजार करने के लिए तैयार थे। उन्होंने अपना खाता खोलने के लिए 21 गेंदें लीं और धीमी लेकिन स्थिर शैली में रन बनाना जारी रखा।

डोमिनिका में तीन दिनों में हारने के बाद, वेस्टइंडीज ने पोर्ट-ऑफ-स्पेन में पहले दिन दोपहर तक चार विकेट लेकर वापसी की, लेकिन दिन का खेल समाप्त होने तक भारत ने वापसी कर ली। कप्तान रोहित शर्मा और यशस्वी जयसवाल ने पहले शतकीय साझेदारी की, इससे बाद विराट कोहली ने अपने 500वें अंतरराष्ट्रीय मैच में नाबाद 87 रन बनाए।

जब भारत का स्कोर 2 विकेट पर 153 रन था तब कोहली बल्लेबाजी करने आए थे और उन्होंने चाय तक भारत को 4 विकेट पर 182 रन बनाते हुए देखा। लेकिन कोहली ने दृढ़ता से अच्छा बचाव किया, विकेटों के बीच तेज़ दौड़ लगाई और ढीली गेंदों का इंतजार करने के लिए तैयार थे। उन्होंने अपना खाता खोलने के लिए 21 गेंदें लीं और धीमी लेकिन स्थिर शैली में रन बनाना जारी रखा। रवींद्र जड़ेजा ने भी 36 रन का योगदान देकर पांचवें विकेट के लिए 106 रन की अटूट साझेदारी की।

सुबह के सत्र में खेल का दौर अगले दो सत्रों जितना संघर्षपूर्ण नहीं था। रोहित और जयसवाल ने सुनिश्चित किया कि भारत शुरुआत में लगभग पांच रन प्रति ओवर की गति से आगे बढ़ा और 26 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 121 रन बनाया।

डोमिनिका में डेब्यू पर उल्लेखनीय संयम दिखाने के बाद, जयसवाल अधिक सौम्य पोर्ट-ऑफ-स्पेन ट्रैक पर आक्रामक खेल दिखाया। रोहित भी, लेग-साइड सीमा पर सीमा रेखा के पास दो लोगों की मौजूदगी के बावजूद, पुल शॉट खेलते रहे। रोहित को अपना अर्धशतक पूरा करने के लिए 72 गेंदों लगी, जबकि जयसवाल सिर्फ 49 गेंदों। रोहित और जयसवाल इस सहस्राब्दी में टेस्ट क्रिकेट में लगातार शतकीय साझेदारी करने वाली पहली भारतीय सलामी जोड़ी बन गए। एस रमेश और देवांग गांधी बैक-टू-बैक शतकीय साझेदारी वाली पिछली भारतीय सलामी जोड़ी थीं, 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ।

इसके बाद वेस्टइंडीज ने दोपहर के सत्र में चार बार स्ट्राइक करके खेल का मूड और गति बदल दी। जेसन होल्डर, जो जयसवाल के बल्ले के बाहरी किनारे को बार बार बीट कर रहे थे, ने भारत को पहला झटका दिया जब उन्होंने उन्हें 74 गेंदों में 57 रन पर डीपिश गली में डेब्यूटेंट किर्क मैकेंजी के हाथों कैच कराया।

मैकेंजी ने जैसवाल की पारी को 4 रन पर खत्म कर दिया होता अगर उन्होंने छठे ओवर में गली में एक कैच को अपने हाथों से गिरने नहीं दिया होता। लंच से पहले आखिरी ओवर में जायसवाल भी 52 रन पर आउट हो सकते थे, लेकिन एलिक अथानाज़ ने होल्डर की गेंद पर पहली स्लिप में आसान मौका खो दिया।

होल्डर ने हालांकि, अक्सर दो गली क्षेत्ररक्षकों के साथ, लगातार बाहर निकलती हुई गेंद फेकी, और दूसरे सत्र में अपना इनाम अर्जित किया। इस बार मैकेंजी ने आत्मविश्वास से जयसवाल का कैच पकड़ लिया।

इसके बाद केमर रोच और जोमेल वारिकन ने क्रमशः शुभमन गिल और रोहित के विकेट लिए। शैनन गेब्रियल ने अजिंक्य रहाणे की ऑफ स्टंप को तेजी से अन्दर आती गेंद उखाड़ दिया।

जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, वारिकन को गेंद पर ग्रिप और टर्न मिलती गई, लेकिन कोहली इसे रोकने के लिए पूरी तरह से तैयार थे। कोहली ने धीमी सतह पर बाएं हाथ के फिंगरस्पिनर के खिलाफ कोई भी जोखिम लेने से इनकार कर दिया और बस उसे थका देने की कोशिश की।

इसके बाद क्रैग ब्रैथवेट ने अथानाज़ और खुद की अंशकालिक ऑफस्पिन की ओर रुख किया, लेकिन वेस्टइंडीज पहले दिन कोहली और जडेजा को अलग नहीं कर सका।