INS Vikrant के नाविक का शव भारतीय विमानवाहक पोत में लटका हुआ मिला

Indian Navy INS Vikrant: नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि नाविक अग्निवीर नहीं था और नियमित कैडर से था। नौसेना ने जांच के लिए एक बोर्ड गठित किया है और कोच्चि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

आईएनएस विक्रांत, जो केरल के कोच्चि बंदरगाह पर खड़ा है, का एक नाविक विमानवाहक पोत में गुरुवार (27 जुलाई) को मृत मिला| नौसेना अधिकारीयों के अनुसार यह आत्महत्या का मामला प्रतीत होता है। मृत नौसेना नाविक 19 वर्षीय था और बिहार के मुजफ्फरपुर का था। उसका शव युद्धपोत के एक कम्पार्टमेंट में लटका हुआ पाया गया।

नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि नाविक अग्निवीर नहीं था और नियमित कैडर से था। नौसेना ने जांच के लिए एक बोर्ड गठित किया है और कोच्चि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

भारत का पहला स्वदेशी विमानवाहक पोत, 45,000 टन का आईएनएस विक्रांत कोचीन शिपयार्ड में 20,000 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। केवल संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, फ्रांस और चीन के पास ही इस आकार के विमानवाहक पोत बनाने की क्षमता है।

इसका नाम विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रांत के नाम पर रखा गया है, जिसे 1961 से 1997 तक नौसेना द्वारा संचालित किया गया था।

INS Vikrant

विक्रांत 262 मीटर लंबा है, इसकी ऊंचाई 61 मीटर (मस्तूल तक) है और इसके फ्लाइट डेक का माप 12,500 वर्ग मीटर (10 ओलंपिक आकार के स्विमिंग पूल के बराबर) है। यह एक बार में 7,500 समुद्री मील तक की गश्त लगा सकता है, और इसकी अधिकतम गति 28 समुद्री मील प्रति घंटा है। इस विमानवाहक पोत में 2,300 कम्पार्टमेंट हैं और 1,600 नाविकों और अफसरों के दल को तैनात किया जा सकता है।

नौसेना में पहले के मामले

एक 25 वर्षीय नौसेना नाविक ने 12 नवंबर, 2022 को अपने सर्विस हथियार से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। 19 मई, 2021 को, एक 22 वर्षीय नौसेना नाविक मुंबई के पास आईएनएस बेतवा पर मृत पाया गया था।

करीब एक साल पहले, 21 जून 2022 को एक और घटना सामने आई थी, जिसमें लेफ्टिनेंट कमांडर रैंक का एक 44 वर्षीय नौसेना अधिकारी कोच्चि के नौसेना अस्पताल में मृत पाया गया। वह अस्पताल के शौचालय में लटका हुआ पाया गया। 6 जुलाई, 2021 को, एक 19 वर्षीय नौसेना नाविक तड़के कटरीबर्ग में गोली लगने से मृत पाया गया।

अप्रैल 2017 में, तमिलनाडु के एक नाविक को भारतीय नौसेना अकादमी क्वार्टर में लटका हुआ पाया गया था और पिछले वर्ष 22 जून को, एक 25 वर्षीय इलेक्ट्रिकल आर्टिफिशर कोच्चि नौसेना बेस में एक नौसेना विमान यार्ड में एक हैंगर के अंदर लटका हुआ पाया गया था।

नौसेना कर्मियों के बीच आत्महत्या की घटनाओं में वृद्धि ने भारतीय नौसेना को मानसिक स्वास्थ्य नीति लाने के लिए प्रेरित किया। रक्षा मंत्रालय ने साल 2022 में कहा था कि नौसेना कर्मियों की आत्महत्या को रोकने के लिए मानसिक स्वास्थ्य सहायता प्रतिरोध क्षमता और प्रशिक्षण के लिए भारतीय नौसेना रणनीति पर एक व्यापक नीति 12 अप्रैल, 2022 को घोषित की गई थी।

(यदि आपको या ऐसे व्यक्ति को खुदकुशी के ख्याल आते हैं तो कृपया अपने नजदीकी मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से संपर्क करें। हेल्पलाइन: आसरा: 022 2754 6669; स्नेहा इंडिया फाउंडेशन: +914424640050 और संजीविनी: 011-24311918, रोशनी फाउंडेशन (सिकंदराबाद) संपर्क नंबर: 040-66202001, 040-66202000, एक जीवन: संपर्क नंबर: 78930 78930, सेवा: संपर्क नंबर: 09441778290)