ISRO चीफ ने कहा चंद्रयान-3 लैंडिंग स्थल शिव शक्ति पॉइंट पर कोई विवाद नहीं

S Somanath ISRO
एस सोमनाथ ने कहा कि ISRO को अब तक Chandrayaan-3 मिशन से "दिलचस्प" डेटा मिला है और आने वाले दिनों में इसकी व्याख्या की जाएगी।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो, ISRO) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने रविवार (27 अगस्त) को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चंद्रयान -3 लैंडिंग साइट का नामकरण ‘शिव शक्ति पॉइंट’ को लेकर कोई विवाद नहीं है। लैंडिंग साइट के नामकरण के संबंध में उन्होंने कहा, ”देश को लैंडिंग साइट का नाम रखने का पूरा अधिकार है। लैंडिंग साइट का नामकरण कोई पहली घटना नहीं है। चंद्रमा पर पहले से ही कई भारतीय नाम मौजूद हैं। हमारे पास चंद्रमा पर साराभाई क्रेटर है। अन्य देशों ने भी अपनी वैज्ञानिक उपलब्धि से संबंधित स्थानों के नाम रखे हैं। छोटे-छोटे प्रयोगों से संबंधित सभी स्थानों का नामकरण किया जाएगा। यह एक परंपरा है.”

सोमनाथ ने कहा कि कई अन्य देशों के चंद्र मिशनों ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने की कोशिश की थी। यह कार्य बहुत जोखिम भरा था क्यूंकि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर घाटियाँ और पहाड़ियाँ हैं और सूर्य की रोशनी केवल 14 दिनों के लिए उपलब्ध है। सोमनाथ ने कहा रोवर को उतारने के लिए समतल जगह ढूंढना बहुत मुश्किल था और इतने सारे मिशन की असफलताओं का यही कारण है।

चंद्रयान पर अन्य ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

“हमने अज्ञात दक्षिणी ध्रुव की वैज्ञानिक क्षमता के कारण जोखिम उठाया। रासायनिक तत्व और पानी मिलने की संभावना है। 14 दिनों की धूप के बाद, रोवर और लैंडर स्लीपिंग मोड में चले जाएंगे और जब सूरज की रोशनी वापस आएगी, तो सिस्टम स्वचालित रूप से लाइव मोड में बदल जाएगा। अगर ऐसा होता है तो हम भाग्यशाली होंगे कि हमें 14 दिन और मिलेंगे। हालाँकि, इसमें बहुत सारे जोखिम भी शामिल हैं,” ISRO अध्यक्ष ने कहा।

सोमनाथ ने यह भी कहा कि ISRO को चंद्रयान-3 मिशन से महत्वपूर्ण और दिलचस्प डेटा मिला है, जिसे आने वाले दिनों में समझा जाएगा। “रोवर योजना के अनुसार आगे बढ़ रहा है। हमें रोवर से बेहद दिलचस्प डेटा मिल रहा है जो पहले कभी नहीं मिला था। आने वाले दिनों में वैज्ञानिक इसे समझेंगे और इसके बारे में बताएँगे।”