भारतीय सेना को निर्देशित नहीं कर सकते, पिछले 72 सालों में नहीं किया: मणिपुर पर सुप्रीम कोर्ट

Indian Army in Manipur

Indian Army in Manipur

मई की शुरुआत में कुकी और मैतेई समुदायों के बीच झड़प के बाद से मणिपुर में जातीय हिंसा में लगभग 150 लोग मारे गए हैं और कई अन्य घायल हुए हैं। कुकियों ने दावा किया है कि राज्य सरकार हिंसा को प्रायोजित कर रही है।

सुप्रीम कोर्ट ऑफ़ इंडिया ने मंगलवार (जुलाई 11, 2023) को मणिपुर हिंसा (Manipur riots) में मारे गए लोगों के शवों को वापस करने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि राज्य में नफरत फैलाने वाले भाषण पर अंकुश लगाया जाना चाहिए और सभी पक्षों को शांति बनाए रखना चाहिए। अदालत ने यह भी कहा कि वह भारतीय सेना (Indian Army and defence forces) या अर्धसैनिक बलों (paramilitary forces) को कोई निर्देश जारी नहीं करेगी, जिनका आजादी के बाद से राजनैतिक और नागरिक नेतृत्व रहा है।

याचिकाओं पर सुनवाई कर रही तीन न्यायाधीशों की पीठ का नेतृत्व कर रहे भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा, “हम सभी पक्षों से संतुलन की भावना बनाए रखने और किसी भी नफरत भरे भाषण में भाग नहीं लेने का अनुरोध करते हैं। अदालत के रूप में हमें स्पष्ट संतुलन दिखाना होगा क्योंकि हम विवाद से दूर खड़े हैं। एक बार जब हम फ्रेम में प्रवेश करते हैं, तो हम अपनी निष्पक्षता खो देते हैं। हमें अलग खड़ा होना पड़ता है।”

कुकी समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता कॉलिन गोंसाल्वेस ने कहा, “विद्वान सॉलिसिटर को अत्यधिक घृणास्पद भाषण पर अंकुश लगाना चाहिए। मैंने इसे भारत में कभी नहीं देखा है। वह इसे रोक सकते हैं क्योंकि वह इन सज्जनों को जानते हैं।”

मई की शुरुआत में कुकी और मैतेई समुदायों के बीच झड़प के बाद से मणिपुर में जातीय हिंसा में लगभग 150 लोग मारे गए हैं और कई अन्य घायल हुए हैं। कुकियों ने दावा किया है कि राज्य सरकार हिंसा को प्रायोजित कर रही है और इसे कम करने में मदद के लिए अदालत से हस्तक्षेप की मांग की है। इस समुदाय का कहना है की विशेषकर सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वाले भाषण से हिंसा को बढ़ावा मिला है।

अदालत ने, जिसने हिंसाग्रस्त राज्य में स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए सुझाव मांगे थे, कहा, “पिछले 72 वर्षों में, हमने भारतीय सेना को ऐसे निर्देश जारी नहीं किए हैं… सेना पर नागरिक नियंत्रण सबसे बड़ी पहचान है लोकतंत्र का। हम इसका उल्लंघन नहीं कर सकते।”

“हमारा विचार है कि अदालत के लिए सेना और अर्धसैनिक बलों को निर्देश देना उचित नहीं होगा। साथ ही, हम यूओआई और मणिपुर राज्य पर मणिपुर के नागरिकों के जीवन की रक्षा के लिए व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए दबाव डालेंगे।” चंद्रचूड़ ने कहा.

अदालत ने कल कहा था कि हालांकि उसके पास व्यापक शक्तियां हैं, लेकिन कानून और व्यवस्था बनाए रखना निर्वाचित सरकार का काम है।

“यह एक मानवीय संकट है और हमारे पास बहुत बड़ी शक्ति है… हमें सुप्रीम कोर्ट के आदेश के प्रति सचेत रहना चाहिए। हम कानून और व्यवस्था नहीं चला सकते, चुनी हुई सरकार चलाती है।”