IndiGo मुंबई-रांची फ्लाइट के यात्री को खून की उल्टी, इमरजेंसी लैंडिंग के बाद नागपुर में मौत

indigo airlines
नागपुर में एक अधिकारी ने बताया कि यात्री सीकेडी और तपेदिक से पीड़ित था और उसे IndiGo विमान में खून की उल्टी हुई थी।

IndiGo एयरलाइन कि मुंबई-रांची की एक उड़ान को सोमवार शाम (21 अगस्त) को एक यात्री को आपातकालीन चिकित्सा स्थिति का सामना करने के बाद नागपुर के बाबासाहेब अंबेडकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर इमरजेंसी लैंडिंग करनी पड़ी। 62 वर्षीय पुरुष यात्री डी तिवारी को सरकारी मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

नागपुर में KIMS अस्पताल के डीजीएम, ब्रांडिंग और कम्युनिकेशंस, ऐजाज़ शमी ने कहा, यात्री सीकेडी और तपेदिक से पीड़ित था और विमान में खून की उल्टी हो रही थी। शमी ने एक बयान में कहा, “उन्हें केआईएमएस अस्पताल में मृत लाया गया था। उनके शव को आगे की प्रक्रियाओं के लिए सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया।”

सोमवार रात करीब आठ बजे जब IndiGo विमान नागपुर के ऊपर आकाश में उड़ रहा था तभी यात्री को खून की उल्टियां होने लगीं और पायलट ने नागपुर में उतरने का निर्णय लिया।

IndiGo एयरलाइन ने एक बयान में कहा, “मुंबई से रांची तक चलने वाली इंडिगो की उड़ान 6ई 5093 को मेडिकल आपात स्थिति के कारण नागपुर की ओर मोड़ दिया गया। यात्री को उतार दिया गया और आगे की चिकित्सा सहायता के लिए अस्पताल ले जाया गया। दुर्भाग्यवश, यात्री जीवित नहीं बचा। हमारी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं उनके परिवार और प्रियजनों के साथ हैं।”

IndiGo के पायलट की नागपुर में मौत

यह घटना ऐसे समय में हुई है जब कुछ दिन पहले IndiGo का एक पायलट उड़ान भरने से कुछ समय पहले नागपुर हवाईअड्डे पर बोर्डिंग गेट पर गिर गया था और अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई थी।

पायलट की पहचान कैप्टन मनोज सुब्रमण्यम (40) के रूप में हुई है, जिसे पिछले 17 अगस्त को दोपहर 1 बजे के आसपास नागपुर-पुणे 6E135 उड़ान का संचालन करना था, लेकिन वह 12.05 बजे के आसपास बेहोश हो गया। शमी ने कहा, प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, पायलट की मौत “अचानक दिल का दौरा” पड़ने से हुई।

हवाई अड्डे के निदेशक आबिद रूही ने कहा कि एक आपातकालीन टीम ने पायलट को गिरने के बाद सीपीआर (कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन) दिया, लेकिन उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

यह घटना कतर एयरवेज के एक वरिष्ठ पायलट की दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु के एक दिन बाद हुई, जब वह दिल्ली-दोहा उड़ान में एक यात्री के रूप में उड़ान भर रहा था। उन्होंने पहले स्पाइसजेट और एलायंस एयर के साथ काम किया था।