यूट्यूब ऑनलाइन ठगी में अहमदाबाद के आदमी ने 40 रूपये लाख गंवाए; क्या सावधानी बरते

Cyber Crime Youtube
देवांग चौहान, एक 3डी डिजाइनर हैं, परन्तु एक फर्जी नौकरी की पेशकश के झांसे में आकर ₹40 लाख खो बैठे। हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार इन्हे 21 अप्रैल को एक अज्ञात नंबर से व्हाट्सएप पर एक संदेश मिला।

यूट्यूब मनोरंजन, समाचार और ज्ञानवर्धक वीडियो का भण्डार होने के साथ-साथ अपने अंदर काफी सारा बकवास भी भरे हुए है| बहुत लोग यूट्यूब के सहारे अपनी आजीविका भी चला रहे और अच्छा कमा रहे| अब इसी चीज़ का फायदा उठा कर ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह सीधे-साढ़े लोगो को बेवक़ूफ़ बना कर उनसे धोके से पैसे ठग रहे| हाल के दिनों में व्हाट्सएप पर या एसएमएस के द्वारा कई लोगो को ये संदेश मिल रहा की वो यूट्यूब वीडियो को पसंद करके हज़ारों लाखों रुपये घर बैठे कमा सकते हैं|

ये घोटालेबाज़ एक आम व्यक्ति के आसानी से अधिक से अधिक रुपये कमाने की प्रवृति और लालच का फायदा उठा कर उनसे लाखो की ठगी कर रहे| पिछले कुछ समय से बहुत सारे मामले सामने आये हैं जिनमे किसी पुरुष या महिला को व्हाट्सएप या एसएमएस पर आसानी से पैसा कमाने का वादा वाले मैसेज आये हैं।

स्कैमर्स उपयोगकर्ताओं को कैसे लुभाते हैं?

साइबर अपराधी उक्त घोटाले को अंजाम देने के लिए व्हाट्सएप और टेलीग्राम जैसे एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं। वे उपयोगकर्ताओं को एक अज्ञात नंबर जो विदेशो से होते हैं से एक टेक्स्ट संदेश भेजकर यूट्यूब पर कुछ वीडियो पसंद करने के लिए कहते थे, जिसमें प्रति ‘लाइक’ के लिए 10 से 50 या उससे भी ज्यादा रुपये का भुगतान करने का वादा किया जाता है। मैसेज में उन वीडियो को लाइक करने और उनके स्क्रीनशॉट व्हाट्सएप पर साझा करने के लिए भी कहा जाता है।

अब, एक बार जब उपयोगकर्ता स्क्रीनशॉट साझा करते हैं, तो उन्हें तुरंत वादा की गई राशि का भुगतान किया जाता है। तो, यदि आप एक वीडियो को ‘पसंद’ करते हैं, तो आपको 50 रुपये मिलेंगे। यदि आपको तीन वीडियो ‘पसंद’ आते हैं, तो आपको 150 रुपये मिलेंगे, और इसी तरह।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, नोएडा में रहने वाली एक 42 वर्षीय महिला ने कथित तौर पर उच्च रिटर्न के वादे के लालच में घोटालेबाजों को 13 लाख रुपये से अधिक का भुगतान किया। पहली बार भुगतान के अलावा, जो शुरू में लोगों को आकर्षित करता है, घोटालेबाजों द्वारा कभी कोई और भुगतान नहीं किया जाता है।

अहमदाबाद का एक व्यक्ति इसी तरह के ऑनलाइन घोटाले का शिकार हो गया और उसे करीब 40 लाख रुपये का नुकसान हुआ। देवांग चौहान, एक 3डी डिजाइनर हैं, परन्तु एक फर्जी नौकरी की पेशकश के झांसे में आकर ₹40 लाख खो बैठे।

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार इन्हे 21 अप्रैल को एक अज्ञात नंबर से व्हाट्सएप पर एक संदेश मिला। उन्होंने अधिक जानने के लिए उस नंबर पर कॉल किया और उन्हें यूट्यूब वीडियो को ‘लाइक’ करने और प्रचारित करने की नौकरी की पेशकश की गई। उस व्यक्ति ने इसके लिए उसे अच्छे पैसे देने का वादा किया। चौहान को अपने खाते में ₹150 का प्रारंभिक भुगतान प्राप्त हुआ और उन्हें टेलीग्राम समूह में अन्य लोगों के साथ जोड़ा गया जो पैसा कमा रहे थे।

कार्य शुरू करने से पहले, उन्हें ₹1,500 का शुल्क देना होगा। हालाँकि, पहला कार्य पूरा करने के बाद उन्हें अतिरिक्त ₹400 के साथ पेमेंट की गई। कुल मिलाकर, उन्हें ₹1,900 मिले, जिसमें फीस और कुछ अतिरिक्त कमाई शामिल थी।

इसके बाद, चौहान ने अगले कार्य के लिए ₹2,050 का भुगतान किया लेकिन बदले में उन्हें कोई पैसा नहीं मिला। फिर उनसे संपर्क करने वाले विभिन्न लोगों ने उन्हें बड़े कार्यों की पेशकश की। वह अन्य टेलीग्राम समूहों में भी शामिल हो गए। अधिक कार्य पाने के लिए उन्हें लगभग ₹30 लाख का भुगतान करना पड़ा, लेकिन किए गए कार्यों के लिए उन्हें कभी कोई पैसा नहीं मिला। जब चौहान ने पैसे वापस पाने की कोशिश की, तो घोटालेबाजों ने उन्हें ब्लॉक कर दिया। उन्होंने दावा किया कि उन्होंने नकारात्मक समीक्षा दी थी और इसे भुगतान न करने के बहाने के रूप में इस्तेमाल किया। उन्होंने अपना भुगतान जारी करने के लिए उस पर ₹11 लाख का टैक्स देने के लिए भी दबाव डाला| तब चौहान ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और मामले की जांच चल रही है।

लोगों द्वारा पसंद किए गए यूट्यूब वीडियो के स्क्रीनशॉट साझा करने के बाद, उन्हें टेलीग्राम डाउनलोड करने और अपना “वेतन” प्राप्त करने के लिए “रिसेप्शनिस्ट” से बात करने के लिए कहा जाता है। कुछ मामलों में, ऐसे टेलीग्राम समूहों में जोड़ा जाता है जिनमें पहले से ही कई सदस्य होते हैं। यहां, सभी को समूह के एक कार्यकारी – या “रिसेप्शनिस्ट” – के संपर्क में रखा जाता है, जो उन्हें एक निश्चित राशि का भुगतान करने के लिए कहता है।

यदि मांगी गई राशि का भुगतान हो जाता हैं, तो वह रोक ली जाती है और घोटालेबाज और भी अधिक पैसे मांगते हैं। ऐसे भी बहाने बनाये जाते हैं की गलत वीडियो को ‘पसंद’ किया गया और इससे आयोजकों को पैसे का नुकसान हुआ। जुर्माने के तौर पर और अलग-अलग बहानों से, लोगों से से लगातार अधिक से अधिक पैसे देने के लिए कहा जाता है।

ऑनलाइन घोटालों से खुद को कैसे सुरक्षित रखें

साइबर अपराधी मानवीय भावनाओं से खेलते हैं और लालच का इस्तेमाल करते हैं। आसानी से मिलने वाले पैसे से काफी लोग आकर्षित हो जाते हैं साइबर अपराधियों इसी का फायदा उठा कर ठगी करते हैं। यह याद रखने वाली बात है की कोई रातोरात अमीर नहीं बन सकता, इसमें समय और मेहनत लगती है। चीज़ें मुफ़्त में नहीं मिलतीं।

आप राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिंग पोर्टल के लिए हॉटलाइन नंबर 1930 पर कभी भी संपर्क कर ऐसे घोटालों की जानकारी दे सकते हैं।