US ने भारत से कनाडा में खालिस्तानी Hardeep Singh Nijjar की हत्या की जांच में सहयोग करने को कहा

hardeep singh nijjar
खालिस्तानी आतंकवादी Hardeep Singh Nijjar की हत्या में भारत की कथित संलिप्तता के बारे में ट्रूडो के आरोपों को जॉन किर्बी ने "बहुत गंभीर" बताया।

संयुक्त राज्य अमेरिका ने भारत को कनाडा का सहयोग कर खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) कि हत्या के पीछे का राज़ पता लगाने के लिए प्रोत्साहित किया है। व्हाइट हाउस के रणनीतिक संचार प्रमुख जॉन किर्बी ने बुधवार (19 सितम्बर) को दावा किया अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन खालिस्तान टाइगर फोर्स के प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बारे में कनाडाई प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा लगाए गए “गंभीर आरोपों से अवगत हैं”।

खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) की हत्या में भारत की कथित संलिप्तता के बारे में ट्रूडो के आरोपों को “बहुत गंभीर” बताते हुए जॉन किर्बी ने कहा है कि वाशिंगटन इस मामले की जांच के लिए ओटावा के प्रयासों का समर्थन करता है और नई दिल्ली को सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

“निश्चित रूप से, राष्ट्रपति (जो बिडेन) इन गंभीर आरोपों से अवगत हैं, और आरोप बहुत गंभीर हैं। और हम इसकी जांच के लिए कनाडा के प्रयासों का समर्थन करते हैं। हमारा मानना ​​है कि पूरी तरह से पारदर्शी व्यापक जांच सही दृष्टिकोण है ताकि हम सब जान सकें कि वास्तव में क्या हुआ था और निश्चित रूप से, हम भारत को इसमें सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं,” अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) रणनीतिक संचार के समन्वयक जॉन किर्बी ने कहा।

किर्बी ने यह अमेरिकी न्यूज़ चैनल CNN पर प्रतिबंधित खालिस्तान टाइगर फोर्स (केटीएफ) के 45 वर्षीय प्रमुख हरदीप सिंह निज्जर (Hardeep Singh Nijjar) की हत्या में कथित “भारत सरकार के एजेंटों” की संलिप्तता के बारे में ट्रूडो के आरोपों के एक सवाल का जवाब दे रहे थे।

कैनेडियन प्रधानमंत्री ट्रूडो ने 18 सितम्बर को अपने देश के पार्लियामेंट में निज्जर, जिसकी हत्या जून 2023 में सरे, ब्रिटिश कोलंबिया में एक गुरूद्वारे के पास हुआ था, के बारे में कहा था, “कनाडाई धरती पर एक कनाडाई नागरिक की हत्या में किसी विदेशी सरकार की कोई भी संलिप्तता हमारी संप्रभुता का अस्वीकार्य उल्लंघन है।” उन्होंने भारत से मामले की सच्चाई स्थापित करने में कनाडा के साथ सहयोग करने का भी आह्वान किया था।

भारत ने ट्रूडो के दावे को “बेतुका और प्रेरित” बताकर खारिज कर दिया। कनाडा ने एक भारतीय राजनयिक को निष्कासित भी कर दिया। भारत ने भी इसके जवाब में मंगलवार (19 सितंबर) को एक शीर्ष कनाडाई राजनयिक को निष्कासित किया।