BCCI चीफ रोजर बिन्नी को जल्दी भारत-पाकिस्तान सीरीज की ‘उम्मीद’

bcci roger binny rajeev shukla
पीसीबी के निमंत्रण पर एशिया कप मैच देखने के बाद BCCI अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बुधवार को अटारी-वाघा सीमा के रास्ते भारत लौट आए।

भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमों द्विपक्षीय सीरीज में आखिरी बार 6 जनवरी 2013 को दिल्ली के अरुण जेटली क्रिकेट स्टेडियम (तब फिरोज शाह कोटला) में भिड़ी थीं। उनके बाद से दोनों टीमें सिर्फ अंतराष्ट्रीय क्रिकेट कौंसिल (आईसीसी) के टूर्नामेंट में ही एक दूसरे के खिलाफ खेली हैं क्यूंकि बोर्ड ऑफ़ कण्ट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई, BCCI) ने भारत सरकार के आदेश पर बिगड़ते राजनैतिक रिश्तों के कारण पाकिस्तान से द्विपक्षीय क्रिकेट रिश्ते ठन्डे बस्ते में डाल दिया।

BCCI अध्यक्ष रोजर बिन्नी का मानना है की पिछले 10 सालों से बंद पड़े द्विपक्षीय क्रिकेट सम्बंध जल्दी शुरू हो सकते हैं। बिन्नी ने गुरूवार (7 सितम्बर) को कहा की उन्हें जल्द ही भारत-पाकिस्तान द्विपक्षीय मुकाबले की “उम्मीद” है। 1983 विश्व कप विजेता ऑल-राउंडर ने यह भी कहा की ये निर्णय बीसीसीआई अकेले नहीं ले सकता है और इसका अंतिम फैसला भारत और पाकिस्तान की सरकारों पर निर्भर है।

“बीसीसीआई अभी कुछ नहीं कह सकता। यह एक सरकारी मुद्दा है, और उन्हें निर्णय लेना होगा। हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा। और उम्मीद है, यह होगा क्योंकि (वनडे) विश्व कप आ रहा है, पाकिस्तान टीम होगी भारत में खेलने के लिए,” बिन्नी ने पाकिस्तान की अपनी ऐतिहासिक यात्रा से भारत लौटने के बाद समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया।

बिन्नी और BCCI उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के निमंत्रण पर एशिया कप मैच देखने के बाद बुधवार को अटारी-वाघा सीमा के रास्ते भारत लौट आए। पिछले 17 साल में यह पहला मौका था जब बीसीसीआई के दो पदाधिकारियों ने पाकिस्तान की यात्रा की।

भारत और पाकिस्तान रविवार (10 सितम्बर) को श्रीलंका की राजधानी कोलम्बो में एशिया कप 2023 सुपर फोर मैच आमने-सामने होंगे। दोनों टीमें 14 अक्टूबर को अहमदाबाद में बहुप्रतीक्षित वनडे विश्व कप मुकाबले में फिर मिलेंगे। लेकिन उसके बाद, प्रशंसकों को भारत-पाकिस्तान मैच देखने के लिए किसी अन्य आईसीसी इवेंट या एशिया कप का इंतजार करना होगा क्योंकि दोनों देशों ने द्विपक्षीय मैच खेलना बंद कर दिया है।

आखिरी बार भारत ने द्विपक्षीय दौरे के लिए 2006 में पाकिस्तान का दौरा किया था। पाकिस्तान का उनका आखिरी दौरा 2008 में एशिया कप के दौरान हुआ था। हालाँकि पाकिस्तान 2012 में एक श्रृंखला के लिए भारत आया था, लेकिन पिछले एक दशक से दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंध आईसीसी और एसीसी आयोजनों तक ही सीमित हैं।

क्रिकेट जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

यह पूछे जाने पर कि क्या क्रिकेट दोनों देशों के बीच शांति बहाल करने का एक माध्यम हो सकता है, BCCI अध्यक्ष बिन्नी ने कहा, “क्रिकेट पहले भी हमेशा एक महत्वपूर्ण माध्यम रहा है। उदाहरण के लिए 2004 के दौरे को लें; जो माहौल बनाया गया था उसके परिणामस्वरूप बहुत अच्छी दोस्ती हुई और व्यापार प्रतिनिधिमंडल। दुकानदार लोगों से पैसे भी नहीं ले रहे थे, वह बहुत अच्छा माहौल था।”