Yuzvendra Chahal का दर्द वर्ल्ड कप टीम में न चुने जाने पर छलका, बोले इसकी आदत हो गई है

Yuzvendra Chahal
टीम इंडिया से बाहर रखे जाने के बाद युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) ने इंग्लैंड काउंटी चैम्पियनशिप के तीन मैचों के लिए केंट के साथ अनुबंध किया।

भारतीय क्रिकेट टीम के 15 खिलाड़ी जो 5 अक्टूबर से शुरू होने वाले वनडे वर्ल्ड कप में भाग लेंगे अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं। वर्ल्ड कप भारत में होने के कारण सभी टीमों के लिए स्पिन आक्रमण बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है। टीम इंडिया ने भी दो स्पिनर्स – रविचंद्रन आश्विन और कुलदीप यादव को टीम में लिया है लेकिन इस बार भी युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) को मौका नहीं मिला।

विजडन इंडिया के दिए गए एक साक्षात्कार में युजवेंद्र चहल ने 2023 विश्व कप नहीं खेलने पर अपनी निराशा प्रकट की लेकिन साथ में यह भी जोड़ा की वो और मेहनत कर टीम में वापस आने का प्रयास करेंगे। “मैं समझता हूं कि केवल पंद्रह खिलाड़ी ही इसका हिस्सा हो सकते हैं, क्योंकि यह विश्व कप है, जहां आप 17 या 18 को नहीं ले सकते। मुझे थोड़ा बुरा लगता है, लेकिन जीवन में मेरा मकसद आगे बढ़ना है। मुझे अब इसकी आदत हो गई है… तीन विश्व कप हो गए हैं,” उन्होंने हंसते हुए कहा। वो टी20 विश्व कप 2021 टीम का हिस्सा नहीं थे, और 2022 संस्करण में उन्हें एक भी गेम में खेलाया नहीं गया था।

लेकिन यजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) ने इंग्लैंड और वेल्स में हुए वनडे विश्व कप 2019, जहाँ तेज़ गेंदबाज़ों ने अपना प्रभुत्व दिखाया था, में एक स्पिनर द्वारा सबसे अधिक विकेट लिए थे। उनके नाम 36.83 के औसत से 12 विकेट थे।

इस लेग स्पिनर ने 2016 में अपने अंतराष्ट्रीय करियर की शुरुआत के बाद से एक भारतीय गेंदबाज द्वारा तीसरा सबसे अधिक वनडे विकेट लिया है, और कुलदीप यादव के बाद एक भारतीय स्पिनर द्वारा दूसरा सबसे अधिक विकेट लिया है। उनके नाम दो बार पांच विकेट हैं – जो किसी भी भारतीय गेंदबाज द्वारा संयुक्त रूप से सर्वाधिक है।

टीम इंडिया से बाहर रखे जाने के बाद युजवेंद्र चहल ने इंग्लैंड काउंटी चैम्पियनशिप के तीन मैचों के लिए केंट के साथ अनुबंध किया। अब उनका लक्ष्य अपनी रेड-बॉल फॉर्म पर काम करना है और वह भारत के लिए टेस्ट टीम में वापस आने का प्रयास कर रहे।

“इसीलिए मैं यहां (केंट में) खेलने आया हूं क्योंकि मैं किसी भी तरह कहीं न कहीं क्रिकेट खेलना चाहता हूं। मुझे यहां रेड-बॉल से मौका मिल रहा है और मैं गंभीरता से भारत के लिए रेड-बॉल से खेलना चाहता हूं। तो यह मेरे लिए एक अच्छा अनुभव था,” युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) ने आगे कहा।

जब उनसे पूछा गया कि कुलदीप यादव और आर अश्विन जैसे लंबे समय के साथियों और दोस्तों के साथ एक स्थान के लिए प्रतिस्पर्धा हो रही है और वह चुनौती को कैसे देखते हैं, तो चहल ने कहा कि यह उन्हें कड़ी मेहनत करते रहने और टीम में वापस आने के लिए प्रेरित करता है।

“मैं टीम का हिस्सा हूं या नहीं, वे मेरे भाइयों (आश्विन और कुलदीप) की तरह हैं। जाहिर है, मैं भारत का समर्थन करता हूं। मुझे चुनौती पसंद है, यह मुझे बताती है कि मुझे कड़ी मेहनत करने की ज़रूरत है ताकि मैं वापस आ सकूं।”