Shahrukh Khan एकमात्र फ़िल्मी सितारे जो अंडरवर्ल्ड के आगे नहीं झुके: संजय गुप्ता

Shahrukh khan jawan
शाहरुख खान (Shahrukh Khan) को 2014 में बढ़ते खतरे की आशंका के कारण अतिरिक्त पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई थी।

बॉलीवुड डायरेक्टर संजय गुप्ता ने शाहरुख खान (Shahrukh Khan) की फिल्म जवान, जो बॉक्स ऑफिस पर एक के बाद एक रिकॉर्ड तोड़ रही है, को देखने के बाद फिल्म सुपरस्टार के बारे में कुछ बाते बताई । संजय गुप्ता, जिन्होंने कांटे, काबिल, शूटआउट एट लोखंडवाला, शूटआउट एट वडाला और जज़्बा जैसी फिल्में निर्देशित की हैं, ने जवान फिल्म की तारीफ भी की और अपने पूरे करियर में चुनौतियों का सामना करने के लिए शाहरुख के दृढ़ संकल्प और साहस के बारे में बात की।

जब 1990 के दशक में अंडरवर्ल्ड बॉलीवुड पर अपना शिकंजा कैसे हुए था और फ्कोई भी फ़िल्मी हस्ती उनके ख़िलाफ़ नहीं जा रहा था तब संजय गुप्ता के दावे के मुताबिक सिर्फ शाहरुख खान (Shahrukh Khan) ही थे जिन्होंने उनकी धमकियों को नज़रअंदाज़ किया “मैंने जवान देखी। मैं इसे साझा करने के लिए बाध्य महसूस कर रहा हूं। 90 के दशक में जब अंडरवर्ल्ड की में फिल्मी सितारों पर दादागिरी चरम पर थी तब शाहरुख़ खान एकमात्र ऐसा सितारा था जो उनके सामने नहीं झुके। ‘गोली मारनी है मार दो, पर तुम्हारे लिए काम नहीं करूंगा। मैं पठान हूं।’ उसने कहा। वह आज भी वैसा ही है,” संजय गुप्ता ने एक्स पर लिखा।

फिल्म समीक्षक और आलोचक अनुपमा चोपड़ा ने अपनी किताब ‘किंग ऑफ बॉलीवुड: शाहरुख खान एंड द सेडक्टिव वर्ल्ड ऑफ इंडियन सिनेमा’ में अबू सलेम, छोटा राजन और छोटा शकील जैसे अंडरवर्ल्ड डॉन के साथ शाहरुख खान (Shahrukh Khan) की मुलाकातों का भी विवरण दिया है।

चोपड़ा ने उल्लेख किया कि धमकियों के बावजूद, शाहरुख़ खान अपना संयम बनाए रखने और मुश्किलों से निपटने में कामयाब रहे। चोपड़ा ने अपनी किताब में बताया कि 1997 में महेश भट्ट की फिल्म डुप्लिकेट में शाहरुख के काम के दौरान अंडरवर्ल्ड ने एक्टर को परेशान करना शुरू किया।

उस समय महाराष्ट्र के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी राकेश मारिया, जो 1993 के मुंबई विस्फोट मामले को सुलझाने के लिए जाने जाते हैं, ने महेश भट्ट को शाहरुख खान पर संभावित खतरे के बारे में सचेत किया। इसके बाद, शाहरुख को एक निजी अंगरक्षक प्रदान किया गया। शाहरुख खान (Shahrukh Khan) को 2014 में बढ़ते खतरे की आशंका के कारण अतिरिक्त पुलिस सुरक्षा प्रदान की गई थी।